MBA का फुल फॉर्म क्या है – MBA Full Form in Hindi

नमस्कार दोस्तो! क्या आप जानते हैं MBA Ka Full Form Kya Hota Hai ? दोस्तों आप सभी ने कभी न कभी MBA का नाम तो सुना ही होगा। शायद हाँ, तभी तो आप इस पोस्ट को पढ़ रहे हैं। आज इस पोस्ट में हम जानेंगे कि MBA Kya Hai, MBA कैसे करें, साथ ही आपको MBA Full Form in Hindi, MBA में करियर कैसे बनाएं, MBA करने के क्या फायदे हैं, MBA कौन कर सकता है आदि के बारे में भी बताया जाएगा।

MBA कोर्स एक बहुत ही प्रसिद्ध कोर्स है जो आज के युवाओं को आकर्षित कर रहा है। अगर आप कोई कोर्स करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको उस कोर्स की पूरी जानकारी होनी चाहिए, तभी आप सही फैसला ले सकते हैं कि आपको कोर्स करना चाहिए या नहीं।

अगर कोई छात्र MBA करना चाहता है तो वह इस पोस्ट को जरूर पढ़े क्योंकि इस पोस्ट में आपको MBA Ka Full Form Kya Hai, MBA कैसे करें आदि के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी।

एमबीए का इतिहास (History of MBA)

MBA एक प्रोफेशनल कोर्स है जिसे ग्रेजुएशन के बाद किया जा सकता है। अगर आप भी बिजनेस मैनेजमेंट में करियर बनाना चाहते हैं तो MBA आपके लिए एक बेहतरीन कोर्स साबित हो सकता है। MBA 19वीं सदी में शुरू हुआ और अमेरिका में शुरू हुआ। जब औद्योगीकरण का विस्तार होने लगा, तो सभी कंपनी अच्छा प्रबंधन चाहती थी, इस प्रकार एक ऐसे पाठ्यक्रम की आवश्यकता महसूस की गई जो लोगों को Business Management के बारे में सिखा सके।

इसीलिए MBA का जन्म हवा और पढ़ाना शुरू किया गया और The Warthon School पहला स्कूल है जहा से MBA सुरु हुई। वर्तमान में MBA कई देशों में पढ़ाया जाता है, भारत भी उनमें से एक है, लेकिन फिर भी लोग अमेरिका से MBA करना पसंद करते हैं।

MBA क्यू करना चाहिए ?

यह जरूरी नहीं है कि हर कोई डॉक्टर या इंजीनियर की पढ़ाई करे, ऐसे कई करियर विकल्प हैं जिन्हें हम अपना सकते हैं। MBA भी उनमें से एक है, इस कोर्स को करने के बाद आपके लिए जॉब के कई दरवाजे खुल जाते हैं.

अगर कोई अच्छी तरह से MBA की पढ़ाई पूरा कर लेता है तो उसकी सैलरी भी लाखों में होती है और उसके काम की भी काफी इज्जत और प्रशंसा होती है। अगर किसी ने बीए, बीकॉम या बीएससी किसी भी स्ट्रीम से ग्रेजुएशन किया है तो ये सभी इस कोर्स को कर सकते हैं।

MBA का फुल फॉर्म क्या है ?

MBA का फुल फॉर्म Master of Business Administration है । यह स्नातकोत्तर डिग्री है। यह कोर्स उन सभी लोगों के लिए मददगार साबित होता है जो Business Management में अपना करियर बनाना चाहते हैं।

आजकल सभी मल्टी नेशनल कंपनियों में MBA Professionals की डिमांड है। MBA कोर्स करने के लिए आपको पहले ग्रेजुएशन करना होगा, ग्रेजुएशन के बिना आपको कॉलेज में एडमिशन नहीं मिलेगा, एडमिशन से पहले आपको entrance exam पास करना होता है। MBA की डिग्री 19वीं सदी में अमेरिका जैसे देश से शुरू हुई है।

MBA के प्रकार (Types of MBA)

अब हम बात करते हैं कि MBA कितने प्रकार के होते हैं और उन सभी के बारे में जानते हैं.

  1. Full Time MBA : यह दो साल का कोर्स है। इस कोर्स में आप MBA को गहराई से समझ सकते हैं.
  2. One Year MBA : यह कोर्स एक साल का होता है, इसलिए छात्र को कम समय में ज्यादा से ज्यादा पढ़ाई करनी पड़ती है.
  3. Part Time MBA : अगर आप एमबीए के साथ जॉब करना चाहते हैं तो यह कोर्स कर सकते हैं। आपके कार्यालय समय समाप्त होने के बाद कक्षाएं आयोजित की जाती हैं।
  4. Evening MBA : यह कोर्स भी फुल टाइम एमबीए की तरह ही है, फर्क सिर्फ इतना है कि शाम को क्लास लगती है।
  5. Modular MBA : अगर आप जल्द से जल्द MBA करना चाहते हैं तो यह कोर्स आपके लिए है, इसे आप क्रैश कोर्स भी कह सकते हैं.
  6. Executive MBA : इस कोर्स को करने के लिए आपके पास 5 से 10 साल का अनुभव होना चाहिए। इस कोर्स का syllabus ऐसा है कि जब तक आपको बिजनेस इंडस्ट्री की समझ नहीं है, आप इसे समझ नहीं सकते।

MBA पढ़ने के लिए योग्यता (Egibility for MBA)

अगर आप जानना चाहते हैं कि MBA कौन कर सकता है तो मैं आपको बताना चाहूंगा कि MBA हर वो व्यक्ति कर सकता है जिसने ग्रेजुएशन पूरा किया हो और आपके पास ग्रेजुएशन में कम से कम 50% होना चाहिए तभी आप MBA के लिए फॉर्म भर सकते हैं।

MBA के लिए प्रवेश परीक्षा (Entrance Exam for MBA)

MBA करने के लिए आपको एंट्रेंस एग्जाम भी देना होता है जिसे हम CAT (कॉमन एडमिशन टेस्ट) कहते हैं। प्रवेश परीक्षा देने के बाद आपकी योग्यता के आधार पर आपका एमबीए के लिए चयन हो जाता है, इसलिए आपको प्रवेश परीक्षा के लिए अच्छी तैयारी करनी होगी। इस entrance exam के स्कोर और personal interview के आधार पर भारत के टॉप mba college में एडमिशन मिलता है, कुछ टॉप एमबीए एंट्रेंस एग्जाम इस प्रकार हैं:

  • CAT
  • MAT
  • XAT
  • NMAT
  • GMAT
  • CMAT
  • SNAP
  • KIITEE

हालांकि कुछ निजी कॉलेज भी सीधे प्रवेश देते हैं लेकिन उनकी फीस बहुत अधिक होती है। इंडिया के बहुत सारे एमबीए कॉलेज जो अपना खुद का entrance exam कंडक्ट नहीं करते हैं और ग्रेजुएशन मार्क्स के आधार पर आपको डायरेक्ट एडमिशन देते हैं।

MBA Fees

अगर MBA की फीस की बात करें तो यह पूरी तरह से कॉलेज पर निर्भर करता है। अगर आप किसी सरकारी कॉलेज से MBA करते हैं तो इसकी फीस 2 लाख तक हो सकती है, जबकि प्राइवेट कॉलेजों की फीस 8 लाख से 25 लाख के आसपास हो सकती है। आप जिस भी कॉलेज से MBA करना चाहते हैं उसकी पूरी जानकारी आपको उस कॉलेज की वेबसाइट पर मिल जाएगी।

MBA Career

  • Management
  • Marketing
  • Human Resources
  • Finance
  • Accounting
  • Sales
  • Health Care

इंडिया के टॉप 10 MBA कॉलेज (Top 10 MBA colleges of India)

एमबीए कोर्स करने वाले सैकड़ों कॉलेज हैं लेकिन MBA के लिए सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालय IIM की series हैं। भारतीय प्रबंधन संस्थान भारत के 4 शहरों में उपलब्ध था, लेकिन बाद में, इच्छुक उम्मीदवारों के लिए और अधिक कमरे बनाने के लिए 2 और शाखाएँ खोली गईं। हमने सूची में Top 10 MBA college का list प्रस्तुत किए है।

  1. Faculty of Management Studies – Delhi
  2. Indian Institute of Management – Indore
  3. Indian Institute of Management – Kozhikode
  4. Institute of Management Technology – Ghaziabad
  5. SP Jain Institute of Management and Research – Mumbai
  6. Xavier School of Management – Jamshedpur
  7. Indian Institute of Management – Ahmadabad
  8. Indian Institute of Management – Bangalore
  9. Indian Institute of Management – Lucknow
  10. Indian Institute of Management – Calcutta

MBA विशेषज्ञता (MBA Specialization)

MBA के प्रथम वर्ष में आपको Business का Basic knowledge दिया जाता है. एमबीए के दूसरे वर्ष में आपको किसी एक क्षेत्र में विशेषज्ञता हासिल करनी होती है। स्पेशलाइजेशन करने से आपको उस फील्ड की अच्छी समझ हो जाती है और भविष्य में उसी के आधार पर आपको जॉब मिल जाती है। इसलिए जरूरी है कि आप किसी अच्छे स्पेशलाइजेशन में जाएं, जिसकी मार्केट में डिमांड भी ज्यादा हो। आप जो भी विशेषज्ञता चुनें उसमें आपकी रुचि होनी चाहिए, तभी आप बेहतर कर सकते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दे कि कुछ लोकप्रिय विशेषज्ञताओं के नाम इस प्रकार हैं:

  • मार्केटिंग (marketing) : आजकल हर कंपनी को मार्केटिंग की जरूरत होती है ताकि ज्यादा से ज्यादा नए ग्राहक उनके साथ जुड़ें। यह विशेषज्ञता उनके लिए है जो मार्केटिंग को समझना और सीखना चाहते हैं।
  • वित्त (finance) : वित्त सीखने के लिए आप इस विशेषज्ञता में जा सकते हैं। इसे सीखने के बाद कोई भी इन्वेस्टमेंट बैंकिंग, इंस्टीट्यूशनल फाइनेंस, मर्चेंट बैंकिंग, कॉरपोरेट फाइनेंस और इंटरनेशनल फाइनेंस के क्षेत्र में जा सकता है।
  • अंतर्राष्ट्रीय व्यापार (international business) : यदि कोई कंपनी अपने व्यवसाय को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ले जाना चाहती है, तो उसे ऐसे व्यक्ति की तलाश होगी, जिसे अंतर्राष्ट्रीय व्यापार की अच्छी समझ हो, जो इस विशेषज्ञता में पढ़ाया जाता है।
  • उधमिता (entrepreneurship) : किसी भी Start Up को चलाने के लिए उधमी और व्यापारी की जरूरत होती है इसलिए इस स्पेशलाइजेशन में आपको उधमिता की पूरी समझ हो जाती है.
  • संचालन प्रबंधन (operation management) : किसी भी व्यवसाय को सुचारू रूप से चलाने के लिए योजना, आयोजन, नियंत्रण और पर्यवेक्षण की आवश्यकता होती है, जो आपको इस विशेषज्ञता में सिखाया जाता है। यह उनके लिए बेहतर है जो इंजीनियरिंग बैकग्राउंड से ताल्लुक रखते हैं।
  • स्वास्थ सेवा प्रबंधन (health care management) : नाम से ही पता चलता है कि स्वास्थ्य से जुड़े तमाम विभागों और अस्पतालों को कैसे मैनेज करना है, इस स्पेशलाइजेशन में सिखाया जाता है। अगर कोई स्वास्थ्य क्षेत्र में जाना चाहता है लेकिन वह रोगी की देखभाल से अलग कुछ करना चाहता है, तो वह स्वास्थ्य देखभाल प्रबंधन कर सकता है।

MBA करने के फायदे (Advantages of MBA)

  • हर किसी को पैसे की जरूरत होती है, इससे अच्छी बात और क्या हो सकती है कि आपको अपने काम के साथ-साथ सम्मान के लिए भी ज्यादा सैलरी मिले। MBA करने के बाद शुरुआत में आपकी सैलरी उतनी नहीं होती है लेकिन कुछ साल के अनुभव के बाद आप महीने में लाखों रुपये कमा सकते हैं। इसकी एक और खास बात यह है कि आपको नौकरी की अच्छी सुरक्षा मिलती है, इसलिए आपको भविष्य की चिंता करने की जरूरत नहीं है।
  • MBA करने के बाद आपको Business और Industry की अच्छी समझ हो जाती है। इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि आप अपना बिजनेस कर सकते हैं और एक अच्छी टीम बना सकते हैं जो अपने काम के प्रति वफादार हो। यह इसलिए भी जरूरी है क्योंकि कई लोग नौकरी से ज्यादा बिजनेस को अहमियत देते हैं। नौकरी में आपकी आमदनी निश्चित है लेकिन व्यापार में आप अपने काम के हिसाब से जितना चाहें उतना कमा सकते हैं। MBA एक ऐसा कोर्स माना जाता है जिसमें आपको नौकरी भी मिल जाती है और अगर किसी को बिजनेस करना पसंद है तो उसे यह भी समझ आ जाती है कि अपने बिजनेस को कैसे आगे बढ़ाया जाए। इसलिए MBA दोनों ही तरीकों से बेस्ट है, यह आप पर निर्भर करता है कि आप बिजनेस करना चाहते हैं या जॉब करना चाहते हैं।
  • कई बार ऐसा होता है कि हम अपने परिवार के लिए अकेले कमाने वाले व्यक्ति हैं और हमें अपने परिवार का पूरा खर्च वहन करना पड़ता है। अगर कोई नौकरी के कारण आगे की पढ़ाई नहीं कर पा रहा है और अपनी नौकरी से संतुष्ट नहीं है तो एमबीए किया जा सकता है। जैसा कि हम अभी जानते थे कि MBA Part Time भी किया जा सकता है इसलिए अगर किसी के पास समय की कमी है तो वह Part Time MBA में एडमिशन ले सकता है। इसका फायदा यह होगा कि आपकी नौकरी नहीं जाएगी और नौकरी से आने के बाद आप MBA की पढ़ाई भी कर सकते हैं।
  • MBA एक ऐसा कोर्स है जिसकी डिमांड भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में है। आप सभी जानते हैं कि किसी भी व्यवसाय या कंपनी को चलाने के लिए हमें एक अच्छी Management Team की आवश्यकता होती है। आप देखिए किसी भी देश में ऐसा कोई देश नहीं होगा जहां कोई कंपनी न हो क्योंकि आजकल सभी बड़ी कंपनियां अपनी शाखा को दुनिया के सामने लाने की कोशिश कर रही हैं। अगर कोई व्यक्ति विदेश में नौकरी करना चाहता है तो वह MBA कर सकता है, इसके लिए आपको बस कंपनी का इंटरव्यू पास करना होता है और आपका नौकर पक्का हो जाता है।
  • आप जिस माहौल में लोगों के साथ रहते हैं, वह निश्चित रूप से आपके व्यक्तित्व और सोच को प्रभावित करता है। एमबीए करते समय आपके साथ भी ऐसा ही होता है। जब आप MBA करते हैं तो आपको MBA के छात्रों, टीचिंग स्टाफ और प्रोफेसरों से बहुत कुछ सीखने और समझने का मौका मिलता है। इन लोगों से बात करने से आपकी कम्युनिकेशन स्किल अच्छी होती है, आपके दिमाग में नए बिजनेस आइडिया आते हैं, आपको मार्केटिंग और मैनेजमेंट की आसानी से समझ आ जाती है। ये सभी चीजें आने वाले समय में आपकी बहुत मदद करती हैं, जिसका व्यापार के साथ-साथ आपकी सोच पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।
  • MBA एक ऐसा कोर्स है जिसके बाद आप एक अच्छी रणनीति बना सकते हैं। यह आपको सिखाता है कि आप योजना बनाकर किसी भी स्थिति से कैसे निपट सकते हैं। यह प्लानिंग न सिर्फ आपके बिजनेस में मदद करती है बल्कि यह भी समझ देती है कि जीवन की किसी भी स्थिति से कैसे गुजरना है। यह आपके मनोबल के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, जो सफलता सुनिश्चित करता है।
  • MBA करने के बाद, आप Business Management में जाए बिना किसी अन्य क्षेत्र में भी अपना करियर बनाना चाहे तो बना सकते हैं। MBA को Post Graduation कोर्स माना जाता है, जिसके बाद आपका पोस्ट ग्रेजुएशन पूरा होता है। अब आप चाहें तो पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद जो भी कोर्स हैं जैसे कि पीएचडी कर सकते हैं और किसी बड़े यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर बन सकते हैं.

आज आपने क्या सीखा (MBA Full Form in Hindi)

तो दोस्तों आज हमने इस पोस्ट में सीखा कि MBA Kya Hai और MBA कैसे करें। मैंने आपको यह भी बताया कि MBA क्या है, MBA कैसे करें, MBA Ka Full Form Kya Hai, MBA के लाभ, MBA की फीस, MBA कौन कर सकता है, MBA की सैलरी आदि।

मुझे उम्मीद है कि अब आपको MBA से जुड़े सभी सवालों के जवाब मिल गए होंगे। अगर आप MBA करने के इच्छुक हैं तो ज्यादा सोचे नहीं और CAT परीक्षा की तैयारी करें ताकि किसी भी अच्छे MBA कॉलेज में आपका एडमिशन आसानी से हो सके।

MBA करने के बाद आप किसी भी बड़ी कंपनी में जॉब कर सकते हैं जहां आपको अच्छी सैलरी भी मिलती है। अगर आपको हमारा यह पोस्ट (MBA Full Form in Hindi) पसंद आया हो तो शेयर, कमेंट जरुर करे ।

यह भी पढ़े : आइपीएस का फुल फॉर्म क्या है ?

Leave a Comment

error: