इलेक्ट्रॉनिक वाहन (Electric Vehicles) क्या है और इसके फायदे और नुकसान क्या है?

देश में पेट्रोल की बढ़ती कीमतों के कारण इलेक्ट्रॉनिक वाहनों का बाजार तेजी से बढ़ रहा है, इसीलिए आज के समय में इलेक्ट्रॉनिक वाहन निर्माता भी तेजी से बढ़ रहा है और ग्राहकों को अपने वाहनों की ओर आकर्षित करने के लिए नए वाहनों का विकास किया जा रहा है। नए-नए ऑफर्स लेकर आ रहे हैं, लेकिन फिर भी बहुत से लोग यह नहीं जानते हैं कि Electric Vehicles क्या है, और इसका फायदा और नुकसान क्या है।

अगर आप भी इन सब बातों की जानकारी लेना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ें। क्योंकि इस लेख में हम आपके साथ इलेक्ट्रॉनिक वाहन से जुड़ी सभी जानकारी साझा करने जा रहे हैं।

इलेक्ट्रिक व्हीकल (Electric Vehicles) का नाम सुनते ही कई लोगों के मन में यह सवाल आता है कि इनकी कीमत बहुत ज्यादा होगी, जो आम आदमी के बजट से बाहर होगी, इतना ही नहीं क्या वो दे पाएंगे पेट्रोल से चलने वाले वाहन के समान माइलेज। इसके अलावा, उनकी बैटरी डिस्चार्ज होने पर वाहन के बंद होने का भी खतरा होता है। ये कुछ ऐसे सवाल हैं जो इलेक्ट्रॉनिक वाहनों को लेकर लोगों के मन में रहते हैं, इस लेख में आपको इन सभी सवालों के जवाब मिलेंगे।

Table of Contents

विद्युतीय वाहन (Electric Vehicles) क्या है?

इलेक्ट्रिक वाहन (Electric Vehicles) वे वाहन हैं जो इलेक्ट्रिक मोटर पर चलते हैं। जो ईंधन और गैसों के मिश्रण को जलाकर बिजली पैदा करता है। यह पर्यावरण के अनुकूल है। इलेक्ट्रिक वाहनों की रनिंग कॉस्ट कम होती है। वे पर्यावरण के अनुकूल भी हैं क्योंकि वे बहुत कम या कोई जीवाश्म ईंधन (पेट्रोल या डीजल) का उपयोग नहीं करते हैं।

इलेक्ट्रिक वाहन (Electric Vehicles) कितने प्रकार के होते हैं?

हाइब्रिड इलेक्ट्रिक वाहन (Hybrid Electric Vehicles)

ये इलेक्ट्रिक वाहन पेट्रोल और बिजली दोनों से चलते हैं। इसमें बैटरी को चार्ज करने के लिए कार के खुद के ब्रेकिंग सिस्टम से इलेक्ट्रिक पावर जेनरेट होती है। इस प्रक्रिया को पुनर्योजी ब्रेकिंग कहा जाता है।

इस प्रक्रिया में, ब्रेक के माध्यम से गर्मी में परिवर्तित होने वाली ऊर्जा का उपयोग इलेक्ट्रिक मोटर वाहन को धीमा करने के लिए भी किया जाता है।

प्लग-इन हाइब्रिड इलेक्ट्रिक वाहन (Plug-in Hybrid Electric Vehicles)

इन इलेक्ट्रिक वाहनों को एक्सटेंड-रेंज इलेक्ट्रिक व्हीकल के रूप में भी जाना जाता है। इस प्रकार के वाहनों को ऊर्जा पेट्रोल और बिजली दोनों से मिलती है।

हम इन इलेक्ट्रिक वाहनों को रीजेनरेटिव ब्रेकिंग और बाहरी इलेक्ट्रिक चार्जिंग आउटलेट से प्लग-इन करके चार्ज कर सकते हैं। लेकिन जब इनकी चार्जिंग कम होने लगती है तो पेट्रोल इन बैटरियों को दोबारा चार्ज करके इनकी रेंज बढ़ा देता है।

बैटरी इलेक्ट्रिक वाहन (Battery Electric Vehicles)

ये वाहन पूरी तरह से इलेक्ट्रिक वाहन हैं। जो सिर्फ और सिर्फ इलेक्ट्रिक पावर से चलाए जाते हैं। इन वाहनों में किसी भी प्रकार का फ्यूल टैंक नहीं होता है। इन वाहनों को प्लग-इन ईवी के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि वे बैटरी चार्ज करने के लिए बाहरी इलेक्ट्रिक चार्जिंग आउटलेट का उपयोग करते हैं। इन वाहनों को पुनर्योजी ब्रेकिंग का उपयोग करके भी चार्ज किया जा सकता है।

इलेक्ट्रिक वाहन के फायदे (Advantages of Electric Vehicles)

कम प्रदूषण

इन वाहनों का सबसे बड़ा फायदा यह है कि ये वाहन पेट्रोल और डीजल वाहनों की तुलना में काफी कम प्रदूषण फैलाते हैं। इन वाहनों में इस्तेमाल होने वाली मोटरें बहुत कम प्रदूषण फैलाती हैं।

महंगे ईंधन से छुटकारा

आज के समय में वाहन चलाने की सबसे बड़ी चिंता देश में पेट्रोल-डीजल की बढ़ती महंगाई है। ऐसे में आप इलेक्ट्रिक वाहनों के जरिए इस समस्या से निजात पा सकते हैं। ये वाहन एक बार चार्ज करने पर लंबी दूरी तय कर सकते हैं।

लागत कम

पेट्रोल डीजल वाहनों की तुलना में इलेक्ट्रिक वाहनों में रखरखाव और रखरखाव की लागत बहुत कम होती है, और इन वाहनों को चलाने के लिए अधिक सर्विसिंग की आवश्यकता नहीं होती है। यही वजह है कि आप इन वाहनों से अपने खर्चे भी बचा सकते हैं।

कम ध्वनि प्रदूषण

इन वाहनों का सबसे बड़ा फायदा यह है कि ये वाहन पेट्रोल और डीजल वाहनों की तुलना में काफी कम प्रदूषण फैलाते हैं। इसके अलावा ये वाहन बहुत कम आवाज करते हैं। ये गाड़ियां काफी स्मूथ होती हैं जो ज्यादा वाइब्रेट नहीं करती हैं।

इलेक्ट्रिक वाहन के नुकसान (Disadvantages of Electric Vehicles)

चार्जिंग स्टेशन की कमी

इलेक्ट्रिक वाहन चलाने के लिए सबसे पहले उसकी बैटरी को बिजली से चार्ज करना जरूरी होता है, तभी यह गाड़ी चल सकती है, लेकिन अगर आप कार को एक बार चार्ज करने के बाद लंबी दूरी तक ले जाते हैं, तो यह बीच मार्ग में आपकी कार की बैटरी डिस्चार्ज हो सकती है। जिससे दोबारा चार्ज होने में समय और बिजली दोनों की खपत होती है, लेकिन हमारे देश में इस समय इलेक्ट्रिक वाहनों को चार्ज करने के लिए पर्याप्त संख्या में चार्जिंग स्टेशन नहीं हैं, जिसके कारण आप इन वाहनों को हर जगह नहीं ले जा सकते।

ज्यादा कीमत

पेट्रोल और डीजल की तुलना में इलेक्ट्रिक वाहन अधिक सुविधाजनक होते हैं, इसीलिए ये अन्य वाहनों की तुलना में अधिक महंगे होते हैं, जिन्हें खरीदना हर किसी के बजट में नहीं होता है। यही वजह है कि लोग कम बजट में बेहतर कार खरीदना पसंद करते हैं।

कम बिजली

पेट्रोल और डीजल वाहनों की तुलना में इलेक्ट्रिक वाहन कम शक्तिशाली होते हैं। ऐसे में अगर आप इलेक्ट्रिक कार खरीदना चाहते हैं तो आपके पास फिलहाल असली विकल्प नहीं है।

प्रदूषण

पेट्रोल और डीजल वाहनों की तुलना में इलेक्ट्रिक वाहन कम प्रदूषण उत्सर्जित करते हैं, लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि ये पूरी तरह से प्रदूषण मुक्त हैं। इन वाहनों में उपयोग की जाने वाली बैटरी और चार्जिंग पावर जरूरी नहीं कि हरित ऊर्जा का उत्सर्जन करें।

इलेक्ट्रिक वाहनों से जुड़ी कुछ जरूरी सवाल

बैटरी बीच में ही खत्म हो जाए तो क्या होगा?

कई लोगों के मन में यह सवाल रहता है कि अगर हमारी कार की बैटरी बीच में ही खत्म हो जाए तो क्या होगा। इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने वाले ग्राहकों को समझना होगा कि उनका मकसद क्या है, ऐसे में अगर आपको रोजाना सिर्फ 60 से 70 किलोमीटर का सफर तय करना है तो आपको बैटरी खत्म होने की चिंता नहीं करनी चाहिए।

लेकिन जल्द ही आपको बाजार में ऐसे वाहन भी देखने को मिल जाएंगे जिससे आप लंबी दूरी की यात्रा भी कर सकेंगे। यही कारण है कि आज के समय में ज्यादातर कंपनियां 80 से 100 किमी की रेंज वाले टू-व्हीलर ईवी और 300 से 500 किमी की रेंज वाली कारें बनाने पर ध्यान दे रही हैं।

पेट्रोल और डीजल की तुलना में इलेक्ट्रिक वाहन कितना बेहतर है?

अगर आप इलेक्ट्रिक वाहन खरीदना चाहते हैं तो आपको इस सवाल के बारे में जरूर पता होना चाहिए।

आप देख रहे होंगे कि आज के समय में पेट्रोल-डीजल के दाम आसमान छू रहे हैं।

इसी तरह अगर आप 60 से 70 किलोमीटर की समान दूरी इलेक्ट्रिक वाहन से तय करते हैं तो आपको सिर्फ 20 रुपये खर्च करने होंगे।

यानी अगर महीने की बात करें तो एक पेट्रोल डीजल कार में आपको 30 दिन में 3000 रुपये खर्च करने होंगे, तो इलेक्ट्रिक वाहन में सिर्फ 600 रुपये खर्च करने होंगे, जिससे आप अंदाजा लगा सकते हैं आप कितना पैसा बचा सकते हैं।

इलेक्ट्रिक वाहन के जीवन को बढ़ाने के तरीके

इलेक्ट्रिक वाहनों में बैटरी और मोटर ही दो महत्वपूर्ण भाग हैं, वर्तमान में ज्यादातर कंपनियां वाहनों के लिए IP6 रेटेड बैटरी बना रही हैं, यानी इन बैटरियों से धूल और नमी में कोई फर्क नहीं पड़ता और बारिश से बचने के लिए इन्हें वाटरप्रूफ बनाया जा रहा है। जब आप वाहन खरीदते हैं तो कंपनियां ग्राहकों को बैटरी पर पांच साल या 1 लाख किलोमीटर तक की वारंटी देती हैं।

और इन वाहनों में मेंटेनेंस की जरूरत भी बहुत कम पड़ती है, इसके अलावा इन वाहनों की बैटरी का समय बढ़ाने का सबसे महत्वपूर्ण तरीका है कि इन्हें बार-बार चार्ज करने से बचें। ज्यादा चार्ज करने से भी बचें। और रात में बैटरी को चार्ज होने पर न छोड़ें।

आज आपने क्या सीखा

इस लेख में हमने आपको इलेक्ट्रिक वाहन से जुड़ी सभी जरूरी बातों के बारे में बताया है। यदि आप इन वाहनों के बारे में सही जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं या इलेक्ट्रिक वाहन खरीदना चाहते हैं, तो यह लेख आपके लिए महत्वपूर्ण है, इसे अंत तक अवश्य पढ़ें।

इस लेख में हमने आपको बताया है कि इलेक्ट्रिक व्हीकल क्या है, electric vehicles kya hai और electric vehicles के फायदे और नुकसान क्या हैं। अगर आपको हमारी यह जानकारी पसंद आई हो तो आप हमें कमेंट में अपनी राय जरूर बताएं और इस जानकारी को अन्य लोगों के साथ भी शेयर करें ताकि उन्हें भी इसके बारे में सही जानकारी मिल सके। धन्यवाद।

Leave a Comment

error: